जानिए जब नहीं हुआ था कंडोम का आविष्कार, तब कैसे बचते थे गर्भधारण से

0
1477

दोस्तों आज के समय में लोग शारीरिक सम्बन्ध बनाने के दौरान अनचाहे गर्भ और कई बीमारियों से बचने के लिए कंडोम का प्रयोग करते हैं. पर एक समय ऐसा भी था जब कंडोम नही बने थे, तब लोग किस प्रकार से सम्बन्ध बनाते थे जिससे वो अनचाहे गर्भ और बीमारियों से बच पाते थे|

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए उस समय ज्यादातर लोग पुल आउट विधि का प्रयोग करते थे, इसका अर्थ ये होता था की जब पुरुष डिस्चार्ज होने की स्थिति में आता था तो वो अपना गुप्त अंग बाहर कर लेता था|

जिससे सीमेन महिला के अंदर प्रवेश नही करता था और अनचाहे गर्भ का खतरा टल जाता था, ये विधि आज भी उतनी ही कारगर है पर इसमें संयम की आवश्यकता होती है|

उस समय के लोग भेंड़ की आंत का प्रयोग एक कंडोम की तरह ही करते थे.

इससे जहाँ अनचाहे गर्भ से सुरक्षा मिलती थी थी तो वहीं इससे महिला साथी को भी अधिक आनन्द की प्राप्ति होती थी|

उस समय महिलाएं सम्बन्ध बनाने के बाद अपने गुप्त अंग को तुरंत ही धो लेती थी जिससे सीमेन अंदर नही जा पाता था और महिलाएं गर्भवती नही होती थी, हालाँकि ये तरीका 70 प्रतिशत ही कारगर था|

कंडोम के फायदे-

1. भोग क्षमता 
एक शौध के दौरान ये बात सामने आई है, कि कंडोम के इस्तेमाल से पुरुषो की अपनी साथी के साथ भोग करने की लाइफ और क्षमता बढती है। साथ ही दोनों बेफिक्र होकर लम्बे समय तक बिस्तर पर समय बिताते है।

2. वायरस से सुरक्षा 
कंडोम यौन संबंधो से फैलने वाले दो सबसे बड़े वायरस ( AIDS और HIV ) से बचाता है। अक्सर ये दोनों वायरस एक से अधिक लोगो के साथयौनसंबंध रखने की वजह से होता है। इसलिए आप अपनी सुरक्षा के लिए कंडोम का इस्तेमाल जरुर करें।

3. दर्द से बचाए
भोग के दौरान कई पुरुषो को उनके लिंग में दर्द होता है किन्तु कंडोम के इस्तेमाल से उन्हें इस दर्द से मुक्ति मिलती है, क्योकि कंडोम के इस्तेमाल से लिंग की बाहरी त्वचा पर कम दबाव पड़ता है। जिससे कम घर्षण पैदा होता है और दर्द नही होता।

4. अनचाहा गर्भ 
कंडोम का इस्तेमाल सबसे अधिक इसी वजह से किया जाता है। जब स्त्रियों को बच्चे नही चाहियें होता, तो वे भोग के दौरान अपने साथी को कंडोम का इस्तेमाल करने के लिए बोल देती है या फिर खुद ही महिला कंडोम का प्रयोग करती है। इससे पुरुषका वीर्य उनके मूत्रमार्ग तक नही पहुँचता और उनके गर्भवती होने की सारी सम्भावना खत्म हो जाती है।

5. बिमारियों से मुक्ति 
कंडोम आपको सिर्फ एड्स या एच आई वी से ही नहीं बल्कि अन्य खतरनाक यौन बिमारियों से भी बचाता है, जैसेकि गोनोर्रहिया, ट्रिकोमोनियासिस, हेरपेस आदि। अगर आपको लगता है कि आपका साथी इनमे से किसी भी बीमारी से संक्रमित है, तो आप उसके साथ सेक्स करते वक़्त कंडोम का इस्तेमाल करें आनंद लें। और लापरवाही में कंडोम न नहीं करेंगे तो इस संक्रमण से आपके प्रभावित होने की संभावना बनी रहती है।

6. चोट से बचाता है 
कई बार भोग करते वक़्त पेनिस पर रगड़ ज्यादा पड़ती है, जिसकी वजह से वो छिल जाता है। जबकि कंडोम में लगा लुब्रिकेंट इस स्थिति से पुरुषों को बचा लेता है। इसलिए हमेशा अपनाएं कॉन्डम।

7. महिलाओं के लिए बेहतर 
कंडोम के प्रयोग से कंट्रांसेप्टिव पिल्स यानी गर्भनिरोधक गोलियों को खाने से बचा जा सकता है। जबकि जो कंडोम का इस्तेमाल नहीं करते उनकी महिला साथी को कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स खाने की वजह से कई और प्रोब्लेम्स का सामना करना पड़ता है।

8. बेहतर अहसास 
भोग के दौरान कंडोम इस्तेमाल करने वाले ज्यादातर लोगो का माना है, कि इसे पहनने से नयेपन का अहसास होता है,और भोग के दौरान अधिक उर्जा मिलती है। क्योकि अब कंडोम भी के तरह के फ्लेवर में आने लगे है, जिसकी वजह से भोग लाइफ में उबाऊपन नहीं महसूस होता।

9. स्वच्छता बनाये 
कंडोम को इस्तेमाल करने से आप सेक्स के दौरान सफाई और स्वच्छता बनाये रखते है। इसके इस्तेमाल से आप अपने साथी के साथ भोग से पहले भी अधिक समय तक अपना प्यार दिखा सकते हैं।