बैंक प्रणाली से हैं परेशान तो ऐसे करें शिकायत

0
368

बैंक अगर आपकी किसी भी शिकायत को अनसुना कर रहा है तो आपके पास एक बेहतरीन विकल्‍प है कि आप बैंकिंग लोकपाल का दरवाजा खटखटा सकते हैं।

बैंकिंग कामकाज निपटाने में सामन्यतः हमें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। सामान्‍य बचत खाता हो या फिर क्रेडिट कार्ड या फिर अन्‍य कोई समस्‍या, बैंक कर्मचारी टोल फ्री नंबर का पता बता कर अपना पल्‍ला झाड़ लेते हैं। लेकिन अक्‍सर बैंक के ये कॉल सेंटर भी आम लोगों की समस्‍या को हल नहीं कर पाते। ऐसे में ग्राहक वापस बैंक के पास जाता है जहां उसकी सुनवाई नहीं होती। अक्‍सर हम लोग भी बैंक की इन्‍हीं गलतियों के शिकार होते हैं, लेकिन उचित माध्‍यम न होने की वजह से कार्रवाई नहीं कर पाते हैं|  लेकिन अब आपके पास बैंकिंग लोकपाल एक बेहद मजबूत अधिकार है, जिसके माध्यम से आप अपनी शिकायत कर सकते हैं |

कौन होता हैं बैंकिंग लोकपाल –

बैंकिंग लोकपाल एक वरिष्ठ अधिकारी होता जिसे आरबीआई बैंकिंग सेक्टर से जुड़ी उपभोक्ताओं की शिकायतों का निवारण करने के लिए नियुक्त करता है। मौजूदा समय में 15 बैंकिंग लोकपाल नियुक्त किए गए हैं। जिनके कर्यालय अधिकतर राज्यों की राजधानी में हैं। इस योजना के अंतर्गत सभी अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक,क्षेत्रीय ग्रमीण बैंक और अनुसूचित प्राथमिक सहकारी बैंक शामिल हैं। कोई भी अधिकृत प्रतिनिधि शिकायत दर्ज करा सकते हैं। सबसे खास बात यह है कि बैंकिंग लोकपाल शिकायत का निवारण करने के लिए  किसी भी तरह का कोई भी शुल्क नहीं लेता हैं |

कैसे करें बैंकिंग लोकपाल को शिकायत –

इसके लिए पहले आपको अपने बैंक में शिकायत दर्ज करानी होगी। यदि आपके पास एक महीने के भीतर बैंक से कोई जवाब नहीं आता या फिर आप जवाब से संतुष्ट नहीं हैं तो बैंकिंग लोकपाल से संपर्क कर सकते है। शिकायतें लिखित में पोस्ट या फैक्स के जरिए की जाती है। ऑनलाइन शिकायतें ई-मेंल के जरिए भी स्वीकार हो जाती है।

शिकायत में ये जरूर लिखें-

  1. शिकायत में अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी जरूर दें
  2. जिस बैंक के खिलाफ शिकायत कर रहें है 3. उसका नाम, पता औक ब्रांच
  3. शिकायत करने की वजह
  4. नुकसान की प्रकृति और संदर्भ
  5. क्या राहत चाहते है

डिपॉजिट के साथ नहीं बनेंगे आप लखपति, निवेश के लिए अपनाने होंगे दूसरे तरीके

किस प्रकार के मामलों में लोकपाल तरजीह देता है-

  1. आरबीआई के निर्देशों में निर्धारित शुल्क से ज्यादा लेने के संबंध में सुनवाई की जाती है।
  2. बैंक की ओर से की गई लापारवाही या फिर किसी और वजह से चेक के भुगतान में देरी को लेकर भी शिकायत दर्ज करा सकते है।
  3.  बैंक एकाउंट खोलने या बंद करने में किसी भी तरह की आनाकानी के विषय में शिकायत कर सकते हैं।
  4. आरबीआई की ओर से दिए गए क्रेडिट या डेबिट कार्ड संबंधी निर्देशों के उल्लंघन पर भी शिकायत कर सकते है।
  5. अगर बैंक आपको किसी भी सेवा के लिए मना करता है।
  6. यदि बैंक कर भुगतान लेने से मना कर दे।
  7. अगर बैंक बिना किसी कारण के डिपॉजिट एकाउंट खोलने को मना कर दे।
  8. अगर बैंक किसी भी पूर्व सूचना के बिना अपने उपभोक्ताओं से ज्यादा शुल्क लेता है तो उस स्थिति में भी आप शिकायत दर्ज करा सकते है।
  9. बिना पर्याप्त सूचना और उचित कारण के आपके डिपॉजिट एकाउंट को जबरन बंद करना