जनरल बिपिन रावत के बयान के बाद पूरी तरह बौखलाया पाकिस्तान , दे दी जनरल बिपिन रावत के बयान के बाद पूरी तरह बौखलाया पाकिस्तान , दे दी परमाणु हमले की धमकी भारत को

0
685

हाल में ही होने वाले संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के बाद पाकिस्तान और भारत के विदेश मंत्रियों के बीच बैठक को भारत के इंकार्ने के बाद पाकिस्तान पूरी तरह बौखला  उठा है। जिसका नतीजा ये निकला की दोनों देशों के बीच नेताओं और उनके अधिकारीयों के बीच काफी ज़ोर सोर से बयानबाज़ी सुरूर होगयी है। भारत के बैठक में आने से इंकार करने के बाद पाकिस्तान सरकार काफी नाराज़ हो चुकी है और अब दोनों देशों के सेनाएं भी इसमें शामिल हो चुकी है। जब भारत के जनरल बिपिन रावत ने पाकिस्तान के निमंत्रण को खारिज के बाद बयां दिया तो उसपे इमरान खान की सरकार ने काफी धमकी भरी अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करि है।

अब समय आ गया है आतंकियों और उनके सेनाओं को मुँह तोड़ जवाब देने का :

जब भारत ने पाकिस्तान के निमंत्रण को खारिज किया तो उसपे पाकिस्तान के प्रवक्ता मेजर ग़फ़ूर ने बोला की “पाकिस्तान एक ऐसा देश है जो परमाणु से संपन्न है और पाकिस्तान हमेसा बड़े पैमाने पे जंग के लिए तैयार है। जुंग हमेसा एक तरफ के नामंजूरी के बाद ही होती है। ” पाकिस्तान के प्रवक्ता मेजर की बयां से ये तो साफ़ था की वो भारत को धमकी दे रहे है। ग़फ़ूर  ने ये तक कहा की अगर पाकिस्तान ने बैठक और मुलाकात का निमंत्रण दिया है तो उसमे दोनों की भलाई ही है , और पाकिस्तान की सैयाम और उसकी शान्ति अपील को कमज़ोर न समझे।

अब समय आ चूका है की पाकिस्तान के आतंकवादियों को मुँह तोड़ जवाब दे दिया जाए क्यूंकि आतंकवाद और वार्ता एक साथ नहीं हो सकती अब।

पूरी तरह से मिल रहा है सरकार का पूरा सहयोग :

जब भारत ने मुलाकात रद्द की घोसना कर दी तोपाकिस्तान के प्रधानमंत्री का जवाब काफी कठोर आया , जिसपे भारत के जनरल बिपिन रावत का कहना है की भारत सरकार की निति बिलकुल स्पष्ट है, और पाकिस्तान को जरूरत है की वो अपने आतंकवाद के बढ़ावे को रोके और फिर कुछ आगे करने की सोचें।

भारत के इस मुलाकात को रद्द करने के पीछे हाल में ही भारत के बी स फ जवान की हत्या जो की पाकिस्तानी आर्मी ने किया था। और भारत ने ये तक जवाब दिया है की पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की असली शकल  उनके कार्यकाल की सुरुवात में ही देखने को मिल गयी है। इस मुलाकात के रद्द होने के बाद पाकिस्तान पूरी तरह से और काफी बड़े पैमाने पे बौखला गया है , असल में कोई नहीं जानता इसके पीछे पाकिस्तान को इस मुलाकात से क्या फायदा था। अब बस देखना ये है की भारत का इस बारे में क्या राय है और भारत इस समस्या के लिए क्या करती है।